देश/प्रदेश

अपनी जड़ व जमीन से जुड़े नई पीढ़ी : रावत

रामनगर : नई पीढ़ी को अपनी जड़ और जमीन से जुड़े रहना आज के समय की दरकार है वरना बेरोजगारी, पलायन जैसी समस्याएं प्रदेश में आती रहेगी। यह बात पूर्व मुख्यमत्री हरीश रावत ने शुक्रवार को डिग्री कॉलेज में छात्रसंघ के अभिनंदन समारोह में कहीं।

लोक संस्कृति के संरक्षण, रहन-सहन, खान-पान तथा क्षेत्रीय भाषा को संरक्षित रखने पर बल दिया। क्षेत्रीय खाद्यान्न के उत्पादन एवं विपणन को प्रोत्साहित करने का परामर्श दिया। उन्होंने कहा कि अपनी संस्कृति से जुड़ा रहना हमारा कर्तव्य है।

पहाड़ से पलायन के बजाय पहाड़ को आबाद करने के विषय में सोचना चाहिए। पारंपरिक खेती और उत्पाद यहां के युवाओं का जीवन संवारने में कारगर साबित हो रहे हैं। कई ऐसे उदाहरण आज हमारे सामने हैं।

इससे पूर्व महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य आरडी सिंह, मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, राज्य सभा सदस्य प्रदीप टम्टा, विशिष्ट अतिथि पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं विधायक गोविंद सिंह कु़ंजवाल, पूर्व विधायक मदन सिंह बिष्ट, पूर्व दर्जा राज्य मंत्री पुष्कर दुर्गापाल, ज्येष्ठ उप ब्लॉक प्रमुख संजय नेगी, रामनगर से अर्जुन सिंह रावत ने कार्यक्रम का शुभारभ किया।

छात्र-छात्राओं ने कुमाऊं-गढ़वाल के लोकनृत्यों की शानदार प्रस्तुति दी। राज्यसभा सासद प्रदीप टम्टा ने पुस्तकों के लिए दो लाख जबकि पूर्व विधायक मदन बिष्ट एवं जागेश्वर विधायक गोविंद कुंजवाल ने 21 हजार रुपये देने की घोषणा की।

महाविद्यालय की प्रगति आख्या डॉ. प्रीति त्रिवेदी एवं छात्रसंघ प्रभारी डॉ. धमर्ेंद्र कुमार ने प्रस्तुत की। संचालन डॉ. जीसी पंत एवं डॉ. डीएन जोशी ने किया। इस दौरान छात्रसंघ अध्यक्ष अमित पाल सिंह रावत, उपाध्यक्ष प्रीति रावत, चित्रेश त्रिपाठी, करन नयाल, सूरज प्रसाद, सुमित लोहनी आदि रहे।

विशेष