देश/प्रदेश

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छाए बागेश्वर के दिग्विजय

बागेश्वर : युवा दिग्विजय जनौटी की फोटो को अंतरराष्ट्रीय फलक पर पहचान मिली है। उनकी चांद डूबने की खींची गई दिलकश फोटो को अंतरराष्ट्रीय इमेजइन अवा‌र्ड्स में दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है। इस पर उनके गांव पालड़ीछीना में खुशी की लहर दौड़ गई है।

इमेजइन ऑनलाइन फोटो प्रदर्शनी करने वाली एक प्रमुख कंपनी है और उसने पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस प्रतियोगिता में देश- विदेशों के 240 फोटोग्राफरों ने प्रतिभाग किया और कंपनी द्वारा निर्धारित नियमों के तहत खुद के कैमरे से खींची गई तीन-तीन सबसे बेहतर फोटो मांगी।

इस प्रकार 240 फोटोग्राफरों द्वारा भेजे गए 720 फोटो में से कंपनी के निर्णायक मंडल ने 30 सबसे बेहतर फोटो का चयन किया। उसके बाद उन 30 फोटो पर ऑनलाइन वोटिग कराई गई।

ये वोटिग कंपनी के द्वारा अपने इमेजइन एप्प, ऐंड्रोइड टीवी और अमे•ान फायर स्टिक के द्वारा ऑनलाइन माध्यम से कराई। जिसमें इसमें जिले के एडवोकेट जनौटी की फोटो को दूसरा स्थान मिला। जनौटी द्वारा चयनित फोटो डूबते चांद की है। यह फोटो उन्होंने पालड़ी गांव स्थित अपने निवास स्थान की छत से ली थी।

इस फोटो में चांद अपने विशाल आकार में था और गणनाथ मल्लिका मंदिर के पीछे स्थित पहाड़ी के पीछे डूब रहा था। जनौटी ने बताया कि उन्हें इस अवार्ड के साथ सात हजार रुपये की धनराशि भी मिलेगी। उन्होंने बताया कि वह पहले शौकिया तौर पर फोटोग्राफी करते थे।

अब यह अवार्ड मिलने से उनकी और जिम्मेदारी बढ़ गई है। उनकी इस उपलब्धि पर जिला बार एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष गोविद सिंह भंडारी, रवि करायत, हरीश जनौटी, भूपाल रौतेला, पूरन रौतेला, फते सिंह करायत आदि ने खुशी जताई है।

विशेष