Home राजनीतिक युवा कांग्रेस में खुलकर सामने आई गुटबाजी

युवा कांग्रेस में खुलकर सामने आई गुटबाजी

14
0
SHARE

देहरादून, सुमित्तर भुल्लर को प्रदेश का कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने के बाद दो खेमों में बंटी युवा कांग्रेस की गुटबाजी खुलकर सामने आ गई।

नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के विरोध में युकां के दोनों गुटों ने अलग-अलग तरीके से प्रदर्शन किया। एक गुट ने उनकी बुद्धि-शुद्धि के लिए मंदिर में हवन किया तो दूसरे धड़े ने पुतला जलाकर विरोध दर्ज कराया।

युवा कांग्रेस के एक धड़े ने  दर्शन लाल चौक स्थित पंचायती मंदिर में प्रज्ञा ठाकुर की बुद्धि-शुद्धि के लिए यज्ञ किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताकर न सिर्फ राष्ट्रपिता अपितु पूरे देश का अपमान किया है।

इसलिए ईश्वर प्रज्ञा ठाकुर को सद्बुद्धि दें। युवा कांग्रेस के उपाध्यक्ष रोबिन त्यागी ने कहा कि इस तरह की मानसिकता के लोग देश और संविधान के लिए खतरा हैं।

ऐसे लोगों को तत्काल लोकसभा से बर्खास्त कर देना चाहिए। राष्ट्रीय संयोजक सोनू हसन ने कहा, यह बड़े दुख की बात है कि महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे के लिए आज भी भाजपाइयों के दिल में ऐसे विचार मौजूद हैं। ऐसे लोगों का समाज से बहिष्कार कर देना चाहिए।

इस दौरान युकां के राष्ट्रीय सचिव संग्राम सिंह पुंडीर, रायपुर विधानसभा अध्यक्ष मोहित मेहता सिद्धार्थ वर्मा, नयन सती, विकास नेगी आदि मौजूद रहे।उधर, दूसरे धड़े ने जिला अध्यक्ष भूपेंद्र नेगी के नेतृत्व में एस्लेहॉल चौक पर सांसद प्रज्ञा ठाकुर का पुतला जलाया।

उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा देश में गांधीवादी विचारधारा को समाप्त करने पर तुली है। इस मौके पर प्रदेश मीडिया प्रभारी संदीप चमोली, विजय रतूड़ी, गौतम सोनकर, हेमंत कुकरेती, आयुष सेमवाल, उदित थपलियाल आदि मौजूद रहे।

कांग्रेस की युवा ब्रिगेड में इन दिनों गुटबाजी चरम पर है। आलम यह है कि ब्रिगेड के दोनों धड़े एक ही दिन अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करने से भी नहीं हिचक रहे।

युवा कांग्रेस में इस गुटबाजी को हवा पार्टी हाईकमान ने ही दी। दरअसल, पिछले वर्ष हुए संगठन के चुनाव में विक्रम रावत प्रदेश अध्यक्ष चुने गए। जबकि सुमित्तर भुल्लर दूसरे नंबर पर रहे और इस कारण उन्हें वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाया गया।

लेकिन, एक वर्ष से भी कम समय के भीतर पार्टी हाईकमान ने सुमित्तर भुल्लर को प्रदेश युकां का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त कर दिया। इसके बाद से युकां दो खेमों में बंट गई है।

आलम यह है कि कांग्रेस मुख्यालय में ही दोनों गुट अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करते हैं, लेकिन कांग्रेस का कोई भी वरिष्ठ नेता उन्हें ऐसा करने से नहीं रोकता।

इस पर युवा कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भूपेंद्र नेगी का कहना है कि संगठन में कुछ समय से धड़ेबाजी सामने आ रही है, जो संगठन को कमजोर करेगी। इसपर तत्काल विराम लगना चाहिए।

LEAVE A REPLY